HomeUncategorizedकिशमिश का बिजनेस कैसे करें? जाने पूरी प्रक्रिया यहाँ आसान भाषा में

किशमिश का बिजनेस कैसे करें? जाने पूरी प्रक्रिया यहाँ आसान भाषा में

Kismish Ka Business Kaise Kare – किशमिश का बिजनेस कैसे करें?

Kismis Ka Business Kaise Kare

किशमिश (Kishmish/kismis) बनाना आवश्यक है क्योंकि यह व्यापक रूप से उपभोग की जाने वाली खाद्य वस्तु है। हालांकि उनमें से ज्यादातर आयात की जाती हैं, हाल के वर्षों में भारत में किशमिश के उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। इसका उपयोग घरों में मिठाई और स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ बनाने के लिए किया जाता है। चूंकि किशमिश मुख्य रूप से अंगूर से बनाई जाती है, इसलिए किशमिश का कारखाना बनाने की योजना बनाते समय इसे ध्यान में रखें जहां बहुत अधिक अंगूर का उत्पादन होता है ताकि उद्यमी कच्चे माल को सस्ते में खरीद सकें। आइए देखें कि किशमिश (Kismis) से पैसे कैसे कमाए जाते हैं।

Kismish Ka Business Kaise Kare – किशमिश का बिजनेस कैसे करें

Kismish Ka Business Kaise Kare - किशमिश का बिजनेस कैसे करें

Kismis Ka Business Kaise Kare

Kismish Se Paise Kaise Kamaye – किशमिश से पैसे कैसे कमाए

किशमिश का प्रयोग लगभग सभी करते हैं। इस प्रकार, यह एक अच्छा उत्पाद है। यह एक अत्यधिक सफल व्यवसाय हो सकता है यदि इसे एक चयनित वातावरण में शुरू किया जाए। जब कोई उद्यमी किशमिश बेचना चाहे तो वह इसे अपने देश में बेच सकता है और दूसरे देशों में निर्यात करके पैसा कमा सकता है, जब तक कि उसका उत्पाद अंतरराष्ट्रीय स्‍टैंडर्ड पर बना हो। किशमिश बनाने का बिजनेस में उद्यमी को पहले घरेलू बाजार पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और अपने उत्पाद में ग्राहकों का विश्वास बनाना चाहिए।

तब उद्यमी अंततः निर्यात कर सकता है। उद्यमी की सफलता उत्पाद की सफाई और गुणवत्ता की आवश्यकताओं पर निर्भर करती है। किशमिश बनाने के लिए इन्हें 80% -85% तक सुखाया जाता है। नीचे दिए गए चरणों का पालन करके, आप जानेंगे कि कैसे किशमिश का उत्पादन और व्यावसायिक रूप से वितरण किया जाता है।

किशमिश के उत्पाद और एप्लिकेशन

किशमिश एक ऐसा उत्पाद है जो मीठा, स्वादिष्ट और शानदार होता है, लोग इसे सूखे मेवे के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं, यानी इसे नाश्ते के रूप में खाया जा सकता है। और यह किसी भी पसंदीदा डिश में अतिरिक्त स्वाद भी जोड़ सकता है, इसलिए इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के मीठे व्यंजन बनाने में भी किया जाता है। इसका मतलब यह है कि लोग किशमिश को नाश्ते के तौर पर खाना पसंद करते हैं या फिर इसे हाथ से कुछ व्यंजन और फलों में मिलाकर खाना पसंद करते हैं।

किशमिश का उपयोग पारंपरिक व्यंजनों जैसे पिलाफ या हलवा में भी किया जाता है। और वर्तमान में, इसका व्यापक रूप से लुगदी, रस, पेस्ट, अनाज, स्नैक्स और दूध में उपयोग किया जाता है। दैनिक आहार पूरक के रूप में उपयोग किए जाने पर किशमिश पोषक तत्व, घुलनशील और अघुलनशील फाइबर और स्वास्थ्य-सुरक्षात्मक बायोएक्टिव यौगिक प्रदान करते हैं।

इस उत्पाद ने हमेशा स्वास्थ्य पहलुओं पर अपना प्रभाव साबित किया है, इसलिए कहा जाता है कि किशमिश कब्ज, हृदय रोग, मधुमेह, पेट के कैंसर और मोटापे जैसी विभिन्न बीमारियों के जोखिम को कम करता है। इसके अलावा किशमिश ब्रेड, मफिन, कुकीज, केक, पाई, टार्ट्स, पुडिंग, पुडिंग आदि को एक अलग ही चमक प्रदान करती है।

अगर हम बेकरी उत्पादों की बात करें तो यह खाद्य उद्योग का मुख्य आकर्षण है। जैसे-जैसे बेकरी उत्पादों में किशमिश का तेजी से उपयोग होता है, किशमिश उत्पादन व्यवसाय का महत्व बढ़ता जाता है। किशमिश एक मीठा उत्पाद है, इसलिए कई ऐसी रेसिपी हैं जिनमें चीनी की जगह किशमिश का इस्तेमाल किया जाता है।

किशमिश का बिजनेस में बाजार और चुनौतियां

Potential and Challenges in Kismish Business in Hindi

दुनिया भर में किशमिश बाजार सूखे फल बाजार की एक प्रमुख श्रेणी है। भोजन, पेय पदार्थों और सौंदर्य प्रसाधनों में किशमिश का उपयोग किया जाता हैं, जिससे दुनिया भर में किशमिश की मांग बढ़ी है। नतीजतन, किशमिश का विश्व बाजार 2026 तक 4.77 प्रतिशत CAGR से बढ़कर 20, 61, 010 करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है। किशमिश सूखे अंगूर हैं जो खाना पकाने और कच्चे खाने में उपयोग किए जाते हैं।

अगर हम किशमिश निर्माण परियोजना की बात करें तो यह पूरी तरह से कच्चे माल यानी अंगूर की उपलब्धता पर निर्भर करता है। अंगूर को मौसमी फल मानते हुए कहा जा सकता है कि इस प्रकार का व्यवसाय जुलाई से सितंबर के बीच शुरू किया जा सकता है। हालांकि, अंगूर की अन्य किस्मों को भी पूरे वर्ष उत्पादन जारी रखने के लिए कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

किशमिश का उत्पादन अंगूर को धूप में सुखाकर या एक समान पोषक तत्व प्रोफाइल वाले फूड डिहाइड्रेटर का उपयोग करके किया जाता है। अधिग्रहण, उत्पाद लॉन्च और विस्तार किशमिश उद्योग में प्रमुख व्यवसायों द्वारा अपने उपभोक्ता आधार का विस्तार करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रमुख रणनीतियाँ हैं। इसके चलते किशमिश के बाजार में लगातार तेजी देखने को मिल रही है।

किशमिश के स्वास्थ्य लाभ खाना पकाने और बेकिंग में बाजार के विकास को आगे बढ़ाते हैं। क्रॉस-सांस्कृतिक व्यंजन भी किशमिश की उपभोक्ता मांग को बढ़ाने में मदद करते हैं। एशिया-प्रशांत में संगठित रिटेल क्षेत्र का उदय भी दुनिया भर में किशमिश उद्योग को प्रेरित करता है। एशिया-प्रशांत दुनिया का सबसे बड़ा किशमिश बाजार है, जिसमें उत्पादकों के लिए विकास के महत्वपूर्ण अवसर हैं। हालांकि, किशमिश खाने के नकारात्मक परिणाम दुनिया भर में किशमिश बाजार के विकास को धीमा कर सकते हैं।

प्रोसेसिंग किशमिश के लक्षित ग्राहकों में ड्राई फ्रूट विक्रेता, खुदरा विक्रेता, कन्फेक्शनरी और दवा उद्योग शामिल हैं। इसलिए, यदि अन्य उद्यमी यों ने घरेलू बाजार पर लगभग कब्जा कर लिया है या स्थानीय स्तर पर ग्राहकों का विश्वास हासिल कर लिया है, तो आप अपने उत्पाद को निर्यात करने और इसे अंतरराष्ट्रीय बाजारों में लॉन्च करने की योजना बना सकते है।

किशमिश का बिजनेस करने के लिए एक बिजनेस प्‍लान बनाएं

Kismish Business Plan in Hindi

उद्यमी को अपने व्यवसाय के लाभ और निवेश का प्रबंधन शुरू करने से पहले अपने व्यवसाय के लिए एक उत्कृष्ट बिजनेस प्‍लान बनाना चाहिए। यह भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्‍लांट की उत्पादन क्षमता और फर्म के अन्य पहलुओं का विवरण देता है। यदि उद्यमी के पास सीमित बजट है, तो वे कम क्षमता वाली मैन्युफैक्चरिंग सुविधा स्थापित करने का निर्णय ले सकते हैं। और अगर उद्यमी के पास बजट है, तो वे अधिक से अधिक उत्पादन क्षमता वाले संयंत्र बना सकते हैं।

एक प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट बिजनेस प्‍लान में ही शामिल होता है। इस जानकारी का उपयोग करके, उद्यमी अपने किशमिश का बिजनेस शुरू करने की लागत और मुनाफे का अनुमान लगाने में सक्षम होगा। इस वजह से, उद्यमी को अपने प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट में खर्च किए जाने की अपेक्षा से कुछ अतिरिक्त धन की आवश्यकता होती है। बैंक ऋण, सरकार द्वारा प्रायोजित सेविंग प्‍लान, और रियायती ऋण वे सबसे सामान्य तरीके हैं जिनसे लोग अपने पैसे का प्रबंधन कर सकते हैं।

आपके किशमिश व्यवसाय के लिए आवश्यक निवेश

Investment Required for Kismish Business in Hindi

अधिक मुनाफ़े के लिए किशमिश का उत्पादन केवल बड़े पैमाने की फ़ैक्टरी द्वारा ही किया जा सकता है। इतना बड़ा कारखाना स्थापित करने के लिए आपके पास पर्याप्त पूंजी होनी चाहिए। आप बैंकों या निजी निगमों से ऋण की मदद भी ले सकते हैं। आपका निवेश विभिन्न फैक्‍टर्स पर निर्भर करता है जैसे कि आपके व्यवसाय का आकार, आपके द्वारा खरीदी गई मशीनरी की गुणवत्ता, आपके द्वारा खरीदे जाने वाले कच्चे माल की गुणवत्ता आदि।

यहां तक ​​कि एक छोटा कारखाना शुरू करने के लिए भी आपको 800 वर्ग मीटर के क्षेत्र की आवश्यकता होगी। बड़े पैमाने पर किशमिश बनाने वाली कंपनी के लिए कुल अनुमानित परियोजना लागत पांच लाख से ऊपर हो सकती है। इसलिए आपको निवेश की गणना करते समय सावधान रहने की जरूरत है और अपने किशमिश व्यवसाय को शुरू करने के लिए सही बजट का अनुमान लगाने के लिए अपने व्यवसाय मॉडल का ठीक से विश्लेषण करें।

आपके किशमिश बिजनेस के लिए भूमि की आवश्यकता

Land Requirements for Kismis Business

किशमिश निर्माण व्यवसाय शुरू करने से पहले एक आदर्श क्षेत्र का चयन करना महत्वपूर्ण है। फिर चुने हुए स्थान की भूमि और संपत्ति का प्रबंधन किया जाना चाहिए। भूमि और भवनों का स्वामित्व, किराए पर लेना या पट्टे पर लेना हमेशा उद्यमी के लिए विकल्प होते हैं। उद्यमी के स्वामित्व वाली संपत्ति पर यूनिट बनाने की योजना बनाना भी संभव है। उद्यमी को उत्पादन, स्‍टोरेज, बिजली और यूटिलिटीज के लिए जगह और एक छोटे से कार्यालय की भी आवश्यकता होती है। एक व्यवसायी को ऐसा करने के लिए 1000-1200 वर्ग फुट की आवश्यकता हो सकती है। एक किशमिश बिजनेस को चुने हुए स्थान में निर्मित भवन उपलब्ध नहीं होने पर किराए पर ले सकते है।

किशमिश का बिजनेस के लिए आवश्यक लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन

Licence and Registration Required for Kismis Business

बिजनेस रजिस्ट्रेशन: भारत में व्यवसाय शुरू करने का पहला कदम कानूनी इकाई के रूप में रजिस्ट्रेशन करना है। फर्म की सीमा और निवेश की गई पूंजी की मात्रा के आधार पर, मालिक निम्नलिखित बिजनेस मॉडल में से एक का विकल्प चुन सकते हैं: लिमिटेड लायबिलिटी कंपनियां तीन प्रकार की होती हैं: लिमिटेड लायबिलिटी वाली LLP, PLC और PLC

फैक्ट्री लाइसेंस: प्रत्येक राज्य में स्थानीय सरकार द्वारा अक्सर एक मैन्युफैक्चरिंग लाइसेंस जारी किया जाता है। फैक्ट्री एक्ट के तहत ऐसा परमिट जरूरी है। यदि आप फ़ैक्टरी लाइसेंस के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो आपको अपनी फर्म की साइट प्‍लान और बिजनेस प्‍लान के लिए आवश्यक कागजी कार्रवाई की आवश्यकता होगी।

प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र: 1974 के जल (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम के अनुसार, स्थानीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एक परमिट की आवश्यकता होती है, जो प्रत्येक कंपनी के मालिक को जल संसाधनों या आसपास के क्षेत्र में प्रदूषकों का निर्वहन करने वाली सुविधा का संचालन करती है।

राज्य प्रदूषण बोर्ड किसी भी उद्योग या कंपनी की स्थापना (CTE) से पहले “नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट” देता है। जैसे ही एक कंपनी या प्रोसेसिंग फैसिलिटी की स्थापना की जाती है, उसे आसानी से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (CTO) संचालित करने की सहमति मिल सकती है। अनापत्ति प्रमाण पत्र को नियमित रूप से नवीनीकृत करने की आवश्यकता है। उम्मीदवार अपनी वेबसाइट के माध्यम से प्रत्येक राज्य के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के लिए CTE और CTO एप्लिकेशन जमा कर सकते हैं।

FSSAI लाइसेंस रजिस्ट्रेशन: भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण की मान्यता चावल किसानों सहित खाद्य क्षेत्र में किसी के लिए भी आवश्यक है। FSSAI लाइसेंस के लिए, आपको ऑनलाइन आवेदन करना होगा और अपनी स्थानीय सरकार की वेबसाइट पर शुल्क का भुगतान करना होगा। इसके अलावा, आवेदक को पूरी आवेदन प्रक्रिया के दौरान निम्नलिखित स्‍टैंडर्ड डयॉक्‍यूमेंट प्रदान करने होंगे।

GST रजिस्ट्रेशन: जो व्यवसाय अपने गृह राज्य से बाहर व्यापार करना चाहते हैं, उन्हें GST रजिस्ट्रेशन नंबर प्राप्त करना होगा। आधिकारिक GST वेबसाइट में एक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म है। आवेदक को आवेदन जमा करने की प्रक्रिया के दौरान सभी आवश्यक सहायक डयॉक्‍यूमेंट उपलब्ध कराने होंगे।

किशमिश प्रोसेसिंग के लिए आवश्यक कच्चा माल

Raw Materials Required for Kismis Business

आपको किसमिस का उत्पादन करने के लिए केवल अंगूर की आवश्यकता है, और उन्हें थोक में खरीदा जा सकता है। आपको बाहर जाना होगा और कुछ उच्च गुणवत्ता वाले अंगूर लेने होंगे। आपको ऐसे अंगूरों का चयन नहीं करना चाहिए जो पहले से ही पके हों। इसके लिए अच्छी किस्म और मीठे अंगूरों का प्रयोग करना चाहिए। आपको स्थानीय अंगूर की खेती करने वालों से संपर्क करने की आवश्यकता है। यहां उच्च कोटि के अंगूर पाए जा सकते हैं। इन अंगूरों को छूट पर खरीदने का यह एक शानदार तरीका है। यहां से अंगूरों को काटा जाना चाहिए और फिर आगे संसाधित किया जाना चाहिए।

किशमिश निर्माण के लिए आवश्यक मशीनरी (Machinery Required for Kismis Business)

  • अंगूर के लिए ड्रायर और वॉशर।
  • छँटाई और पीसने के लिए मशीन।
  • पैकेजिंग के लिए एक मशीन।
  • मापने का एक उपकरण।
  • कार्गो क्रेट और अन्य परिवहन उपकरण।
  • एक सीलिंग मशीन।
  • अन्य टूल्‍स और इक्विपमेंट।

किशमिश कैसे बनाते हैं (Kismis Kaise Banaye)

Kishmish Kaise Banti Hai

  • आपूर्तिकर्ता से अच्छी गुणवत्ता वाले अंगूर चुनें।
  • अंगूर मौसम के आधार पर ट्रे पर दो से चार सप्ताह तक सूख सकते हैं। अंगूर की नमी की मात्रा 75% से घटकर 15% से कम होने पर फल भूरे-बैंगनी रंग का हो जाता है।
  • जब किशमिश सूख जाती है, तो कागज की ट्रे को उनके ऊपर लपेट कर बंडल बना लिया जाता है। एक बार एकत्र होने के बाद, रोल परिवहन के लिए तैयार होने तक डिब्बे या बक्से में जमा हो जाते हैं।
  • फ्रूट रोल्स के निर्माण में आने पर गंदगी और अन्य अवांछित चीजें हटा दी जाती हैं।
  • सूखे अंगूरों को स्‍टोरेज डिब्बे से लिया जाता है और प्रोसेसिंग सुविधा के लिए भेजा जाता है।
  • बाद में, उन्हें कन्वेयर सिस्टम द्वारा यांत्रिक रूप से बदल दिया जाता है।
  • किशमिश से रेत और गंदगी को एयर-ब्लास्टिंग फाइन मेश फिल्टर के माध्यम से चलाकर हटाया जा सकता है। अपरिपक्व फल को सक्शन उपकरण का उपयोग करके वैक्यूम करके हटाया जा सकता है।
  • प्रत्येक किशमिश की कैप के तनों को दो घूमने वाली शंक्वाकार सतहों का उपयोग करके दो-चरणीय प्रक्रिया का उपयोग करके हटा दिया जाता है। बाद में, किशमिश को डंठल से निकालने के लिए हिलाया जाता है। किशमिश से बीजों को यंत्रवत् हटा दिया जाता है यदि उनमें कोई हो।
  • एक बार सभी प्रोसेसिंग कार्यों को पूरा करने के बाद किशमिश को जाल फिल्टर की एक श्रृंखला का उपयोग करके आकार से अलग किया जाता है। अब जबकि किशमिश को विभाजित कर दिया गया है, उन्हें विभिन्न कंटेनरों में संग्रहित किया जा सकता है।
  • उन्हें वाहनों में डाल दिया जाता है और अपने ग्राहकों तक पहुंचाया जाता है।

किशमिश का स्‍टोरेज और पैकिंग

Storage and Packing of Kishmish

किशमिश में पानी की उच्च पारगम्यता होती है। मोल्ड, रॉट और फेरमेंटशन सभी नमी में हो सकते हैं, और एक बार फेरमेंटशन होने के बाद, यह तेजी से पूरे बैच में फैल सकता है। तापमान और आर्द्रता की सही परिस्थितियों में घुन, तिलचट्टे, भृंग, ग्रब, पतंगे, चूहे और चूहे और चींटियों को रोका जा सकता है। 24 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान और यांत्रिक दबाव में ढेर, सिरप उत्पादन, कैंडीइंग और फेरमेंटशन हानिकारक हो सकते हैं।

गर्मी के परिणामस्वरूप मलिनकिरण और सख्त हो सकता है। नतीजतन, इसका उपयोग करते समय गर्मी के स्रोतों से बचना चाहिए।

किशमिश को अंततः 400 गेज एलडीपीई फिल्म बैग में पैक किया जाता है और प्राकृतिक किशमिश रंग को बनाए रखने और यांत्रिक, जलवायु, जैविक और रासायनिक तनाव को सहन करने के लिए कीट हमले से बचने के लिए कम तापमान पर 5 से 15 किलोग्राम क्षमता के नालीदार बक्से में रखा जाता है।

किशमिश बिजनेस का लाभ मार्जिन

Profit Margin of Kishmish Business in Hindi

एक किशमिश उत्पादक के रूप में, आपको एक वितरक या डीलर का पता लगाना होगा, जो बहुत मुश्किल नहीं होना चाहिए। निर्माता बहुत पैसा कमाते हैं क्योंकि किशमिश बहुत मांग में हैं। किशमिश निर्माण व्यवसाय का लाभ मार्जिन विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है। बड़े पैमाने पर किशमिश निर्माण व्यवसाय के लिए आपको उच्च निवेश और उच्च लाभ की आवश्यकता होती है। यदि आप छोटी शुरुआत करते हैं, तो आपको लाभ भी मिलेगा।

अपना निवेश वापस पाने में 2 से 3 साल का समय लग सकता है; बाद में, आपका व्यवसाय लाभ के पैमाने पर जा सकता है। यदि आप अपने उत्पादों को सीधे उपभोक्ताओं को बेचने का कोई तरीका खोज सकते हैं, तो आप अधिक लाभ कमा सकते हैं। हो सके तो अपने रिटेल आउटलेट खोलने और अपनी किशमिश बेचने की कोशिश करें, इस तरह, आप कुछ ही समय में अपने किशमिश के कारोबार को बढ़ावा दे सकते हैं।

अंगूर प्रत्येक 1.6 किलोग्राम के लिए लगभग 0.45 किलोग्राम किशमिश पैदा करते हैं। आप अपने व्यवसाय के लिए आवश्यक चल रहे निवेश और अपनी उपज को बेचकर उत्पन्न आय की गणना कर सकते हैं। हालाँकि, यह एक मोटा आंकड़ा है और कभी-कभी निर्माण प्रक्रिया के आधार पर बदल सकता है। फिर भी, आप इस जानकारी का उपयोग अपने वित्त के मोटे अनुमान के लिए कर सकते हैं।

किशमिश का बिजनेस कैसे करें? पर अक्‍सर पूछे जाने वाले सवाल

FAQ on Kishmish Ka Business Kaise Kare

क्या किशमिश का बिजनेस लाभदायक हैं?

1000 किलो किशमिश (मोनाका और किशमिश) के लिए निर्माता का शुद्ध लाभ मार्जिन क्रमशः रु. 83,786 और रु. 72,663। इस प्रकार मोनाका ने ताजे अंगूरों की तुलना में 8 प्रतिशत अधिक लाभ मार्जिन दिखाया जबकि किशमिश का लाभ मार्जिन ताजा अंगूर की तुलना में 6 प्रतिशत कम था।

1 किलो अंगूर से कितनी किशमिश बनाई जा सकती है?

लगभग 1.6 किलोग्राम अंगूर से 0.45 किलोग्राम किशमिश प्राप्त होती है।

किशमिश कितने प्रकार की होती है?

फिर भी, सभी किशमिश इन किशमिश समूहों में से किसी एक से संबंधित हैं: नियमित किशमिश, सुनहरी किशमिश, हरी किशमिश, लाल किशमिश, सुल्ताना और करंट। किशमिश को थॉम्पसन सीडलेस, फ्लेम या ब्लैक कोरिंथ से बनाया जाता है।

अन्य बिज़नेस आइडियाज जो आपको पसंद आएंगे:

अचार बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?

चिक्की बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?

भारत में मसाला बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें? 

यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर करें।
समय देने के लिए धन्यवाद और आपका दिन शुभ हो!

अधिक जाने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.