पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें? बिजनेस प्लान, लागत और लाभ

How To Start Paper Straw Making Business in Hindi | पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस प्रोजेक्ट रिपोर्ट, बिजनेस प्लान का परिचय:

पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय शुरू करना कोई मुश्किल काम नहीं है। राज्य की राजधानी दिल्ली में पहले से ही कई पेपर स्ट्रॉ निर्माताओं को देख सकते है। जैसा कि पेपर स्ट्रॉ के कुछ फायदे हैं जैसे कि पर्यावरण के अनुकूल संपत्ति का मतलब है कि यह पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता है जिससे लोग नियमित रूप से इसका विकल्प चुनते हैं।

इसलिए, सरकार भी कुछ स्कीम्स को प्रदान करके इस पर्यावरण के अनुकूल परियोजना का समर्थन करती है।

इसके अलावा, यदि किसी को कागज के तिनके की संभावित मांग के बारे में पता है तो वह आसानी से अपने लाभ का विश्लेषण कर सकता है। इस तरह, कोई भी व्यवसाय शुरू कर सकता है और बाजार में उत्पाद की मांग का अनुमान लगा सकता है।

विषय सूची

How To Start Paper Straw Making Business in Hindi | पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?

How To Start Paper Straw Making Business in Hindi - पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस शुरू करने के लिए एक गाइड

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस शुरू करने के लिए बिजनेस प्लान

Paper Straw Making Business Plan in Hindi

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस शुरू करने से पहले, आपको निम्नलिखित बिंदुओं पर विचार करके एक आदर्श बिजनेस प्लान तैयार करना होगा।

बाजार में इस्तेमाल होने वाले विभिन्न प्रकार के पीने के स्ट्रॉ

Types of drinking straws in Hindi

कच्चे माल पर आधारित स्ट्रॉ दो प्रकार के होते हैं – एक प्लास्टिक के माध्यम से होता है, और दूसरा कागज से तैयार किया जाता है। यदि हमारे पास बाजार के बारे में गहन शोध है, तो हम यह पहचान लेंगे कि प्लास्टिक का मुख्य रूप से उपयोग किया जाता है।

लेकिन प्लास्टिक स्ट्रॉ को पर्यावरण के लिए असुरक्षित माना जाता है इसलिए पेपर स्ट्रॉ की मांग दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है; इसलिए कई दुकानें पेपर स्ट्रॉ का उपयोग करना पसंद करती हैं। पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय शुरू करने की सोच रहे हैं, तो बेहतर है कि आप पेपर स्ट्रॉ चुनें जो टिकाऊ हों और अब बाजार में मांग बढ़ रही है।

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिजनेस का कार्यान्वयन कार्यक्रम

Implementation schedule of Paper Straw Making Business in Hindi

बिज़नेस प्‍लान तैयार करना१ - २ महीने
वित्तीय सहायता या निवेश२- ४ महीने
स्थान का चयन एवं यूनिट की स्थापना३-४ माह
बिजली और पानी के कनेक्शन की सुविधा4-5 महीने
बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन एवं शेड विकास5-6 माह
मशीनरी और उपकरण खरीद6 - 7 महीने
कच्चे माल की खरीद और मैनपावर की भर्ती8 - 9 महीने
ट्राइल ऑपरेशन10वां महीना

पेपर स्ट्रॉ मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस की बाजार क्षमता

Market potential of Paper Straw Making Business in Hindi

पेपर स्ट्रॉ कई दुकानों जैसे फलों के रस, बेकरी आदि में एक महत्वपूर्ण सामग्री है, और इसलिए, इसके उपयोगों के बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है। पेपर स्ट्रॉ की छोटे स्टोर और सुपरमार्केट दोनों में भारी मांग है।

इस पोस्ट में, हम व्यवसाय शुरू करने की विशिष्टताओं और उसके लिए आवश्यक वस्तुओं के बारे में विस्तार से बताएंगे।

विदेशों में भी इस व्यवसाय की भारी मांग है। यदि वे उत्पाद का निर्यात करना चाहते हैं और अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं तो कोई भी पेपर स्ट्रॉ निर्यातकों से संपर्क करने की योजना बना सकता है।

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए सरकार की मंजूरी जरूरी

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक परमिशन की सूची नीचे दी गई है

  1. MSME रजिस्ट्रेशन
  2. जीएसटी रजिस्ट्रेशन
  3. ROC
  4. फर्म का रजिस्ट्रेशन
  5. दुकान अधिनियम लाइसेंस
  6. IEC कोड
  7. एक्सपोर्ट लाइसेंस
  8. आग और सुरक्षा
  9. ESI
  10. PF
  11. प्रदूषण बोर्ड से No Objection Certificate
  12. स्थानीय नगरपालिका प्राधिकरण से व्यापार लाइसेंस

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक कच्चा माल

Raw materials To Start Paper Straw Making Business in Hindi

पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय एक पैसा कमाने वाला व्यवसाय है। लेकिन व्यवसाय को विकसित करने के लिए, आपके पास पेपर स्ट्रॉ प्राप्त करने के लिए आवश्यक सभी पेपर स्ट्रॉ कच्चे माल के बारे में विचार होना चाहिए। साथ ही, आपको उन उपकरणों और उपकरणों के बारे में भी पता होना चाहिए जो पेपर स्ट्रॉ बनाने के लिए अनिवार्य हैं।

व्यवसाय शुरू करने से पहले, किसी को उस प्रकार के सामान बनाने के लिए आवश्यक कच्चे माल के बारे में पता होना चाहिए। इसके अलावा आपको उस स्रोत का अंदाजा होना चाहिए जहां से आपको कच्चे माल की पर्याप्त आपूर्ति हो सके। इस डेटा को प्राप्त करने के बाद, आप उस मूल्य का मूल्यांकन कर सकते है जो कच्चे माल की खरीद के लिए आवश्यक होगा, जो कि उत्पादित होने वाले स्ट्रॉ की दर तय करने के लिए महत्वपूर्ण है।

इस प्रकार, पेपर स्ट्रॉ बनाने के लिए कच्चे कागज, स्याही, गोंद और सफेद तेल की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, स्ट्रॉ को पेंट करने के लिए curarine भी आवश्यक है। इस प्रकार, आपको पेपर स्ट्रॉ के रंग के आधार पर स्याही और गोंद प्राप्त करना चाहिए। स्याही और गोंद की कीमत लगभग 120 रु. प्रति किलो, लेकिन लागतों को ठीक से चेक करना महत्वपूर्ण है क्योंकि वे बाजार से बाजार और जगह से कुछ भिन्न हो सकते हैं।

पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक मशीनरी

Machinery To Start Paper Straw Making Business in Hindi

व्यवसाय शुरू करने से पहले, आपको उन विभिन्न मशीनों के बारे में उचित जानकारी प्राप्त करनी चाहिए जो आपको व्यवसाय शुरू करने के लिए प्राप्त करनी चाहिए। इसके अलावा मशीन को खरीदने में होने वाले खर्च की जानकारी होना जरूरी है। इस पेपर स्ट्रॉ बिजनेस में दो मशीनों की जरूरत पड़ेगी। एक पेपर स्ट्रॉ तैयार करना है, और दूसरा पेपर स्ट्रॉ काटने के लिए प्रयोग किया जाता है।

पेपर स्ट्रॉ निर्माण प्रक्रिया

Paper Straw Manufacturing Process in Hindi

इन सभी पहलुओं के अलावा बायोडिग्रेडेबल स्ट्रॉ बनाने के तरीके के बारे में ज्ञान होना महत्वपूर्ण है। प्रक्रिया के दौरान, कच्चे कागज या पेपर रोल और स्याही को पेपर स्ट्रॉ बनाने की मशीन में डाला जाता है। उपकरण में दोनों सामग्री मिश्रित हो जाएगी, और वे स्ट्रॉ का निर्माण करेंगे।

इसके बाद, आप उपकरण में मिश्रित सामग्री के आकार को प्रोग्राम कर सकते हैं। मनचाहा आकार देने के बाद अब इसे टुकड़ों में काट लिया जाता है। इसे दूसरी मशीन से किया जाएगा।

इस तरह, पेपर स्ट्रॉ अब बिक्री के लिए ठीक से तैयार हो जाते हैं।

पेपर स्ट्रॉ बनाने की मशीन खरीदते समय, एक बार में मशीन द्वारा बनाए जा सकने वाले स्ट्रॉ की संख्या को ध्यान से चेक करना चाहिए। यह आपको उत्पादन दर की गणना करने में सहायता करेगा, और इस प्रकार यह मशीन खरीदने का विकल्प चुनने का एक निर्णायक पहलू हो सकता है।

पेपर स्ट्रॉ की पैकिंग

Packing of the Paper Straw in Hindi

इस व्यवसाय में उत्पाद पैकिंग के लिए उचित कौशल की आवश्यकता होती है और स्ट्रॉ का निर्माण होते ही पैक करना बहुत महत्वपूर्ण है। पेपर स्ट्रॉ को डिब्बों में पैक करने की सिफारिश की जाती है जो बिना किसी नुकसान के स्ट्रॉ को बनाए रखने में सहायक होते हैं। इस चरण में, आपको यह तय करना होगा कि आप एक कार्टन में कितने स्ट्रॉ रखने की योजना बना रहे हैं।

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस का प्रोजेक्ट रिपोर्ट

भारत में पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिज़नेस का अर्थशास्त्र

Paper Straw Making Business Project Report in Hindi

यहां, हमने आपकी आसानी और तत्काल संदर्भ के लिए पेपर स्ट्रॉ बनाने के लिए अनुमानित विश्लेषण जोड़ा है।

फिक्स्ड कैपिटल

मशीनरी और उपकरण: 6,50,000 रुपए

आवर्ती व्यय (प्रति माह)

कच्चा माल प्रति माह : 2,55,100 रुपए

वेतन और मजदूरी प्रति माह: 30,475 रुपए

प्रति माह उपयोगिताएँ: 4750 रुपए

प्रति माह उपयोगिताएँ: 12500 रुपए

प्रति माह कुल आवर्ती व्यय: 3,02,825/- रु.

3 महीने के लिए आवर्ती व्यय: 9,08,475/- रुपए

कार्यशील पूंजी मूल्यांकन: 6,50,000/- रुपए

पेपर स्ट्रॉ बिजनेस के लिए वित्तीय पहलू

पेपर स्ट्रॉ निर्माण व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक कुल परियोजना लागत

संयंत्र और मशीनरी: 16,50,000रुपए

कार्यशील पूंजी: 16,50,000 रुपए

कुल: रु. 13,00,000 रुपए

कुल परियोजना लागत: 13,00,000 रुपए

प्रमोटर योगदान 10%: 1,30,000 रुपए

कुल: 11,70,000 रु.

बैंक से आवश्यक वित्त: 11,70,000/- रुपए

प्रति वर्ष उत्पादन की लागत

कुल आवर्ती लागत: 36,33,900 रुपए

बैंक ऋण पर ब्याज @12.5%: रु. 1,46,250

मशीनरी और स्टेबलाइजर पर कुल मूल्यह्रास @ 15%: 90,000 रुपए

फर्नीचर और अन्य उपकरणों पर कुल मूल्यह्रास @ 20%: रु. 5,000

कुल: 38,75,150 रु.

टर्नओवर प्रति वर्ष

1,20,00,000 नग की बिक्री से – पेपर स्ट्रॉ @ रुपए 0.39: रु. 46,80,000/-

प्रति वर्ष लाभ

कारोबार – उत्पादन की लागत = रुपए 46,80,000 – रुपए 38,75,150 = रु. 8,04,850/-

बिक्री पर लाभ का प्रतिशत = लाभ / वार्षिक X 100 / कारोबार = 8,04,850 X 100/46,80,000 = 17.2%।

रेट ऑफ रिटर्न

रेट ऑफ रिटर्न = प्रति वर्ष लाभ x 100/कुल पूंजी निवेश = 8,04,850 X 100/13,00,000 = 61.91%।

ब्रेक इवन  एनालिसिस

प्रति वर्ष निश्चित व्यय:

ऋण पर ब्याज: रुपए 1,46,250

कुल मूल्यह्रास: रुपये 95,000

वेतन और मजदूरी का 40%: रुपए 1,46,280

अन्य खर्चों और उपयोगिताओं का 40%: रुपए 1,82,800

कुल: रु. 4,70,330

पेपर स्ट्रॉ मेकिंग बिजनेस में प्रॉफिट मार्जिन

प्रति वर्ष लाभ: रुपए 8,04,850/-

ब्रेक इवन पॉइंट = निश्चित लागत प्रति वर्ष x 100/निश्चित लागत प्रति वर्ष + लाभ प्रति वर्ष = 4,70,330 X 100/1275180 = 36.88%।

पेपर स्ट्रॉ की मार्केटिंग कैसे करें

अपने पेपर स्ट्रॉ को बेचने के लिए, आपको इसे B2B वेबसाइटों और B2C वेबसाइटों पर ऑनलाइन पंजीकृत करना होगा।

B2B वेबसाइटें: वेबसाइटें जैसे –

अलीबाबा,

इंडियामार्ट,

ट्रेडइंडिया,

एक्सपोर्ट्सइंडिया आपके उत्पाद के लिए थोक ऑर्डर लेगा।

B2C वेबसाइटें: उत्पादों को सीधे ग्राहक को बेचने के लिए, आप अच्छी तरह से स्थापित वेबसाइटों में भी मार्केटिंग कर सकते हैं जैसे- अमेज़ॅन, स्नैपडील, फ्लिपकार्ट, आदि।

पेपर स्ट्रॉ मेकिंग बिजनेस पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

पेपर स्ट्रॉ बनाने का बिजनेस के लिए कौन सी मार्केटिंग और प्रचार रणनीतियों का पालन किया जाना चाहिए?

कुछ सक्रिय मार्केटिंग तकनीकों का उपयोग करके, आप बाजार में अपने व्यवसाय के माध्यम से आसानी से आय उत्पन्न कर सकते हैं। यहां, आपको विभिन्न व्यक्तियों द्वारा उपयोग की जाने वाली व्यावसायिक पद्धतियों को सीखना होगा। आपके उत्पाद का विज्ञापन और प्रचार दोनों ही आपके लिए मददगार होंगे। आप एक समाचार पत्र के विज्ञापन के रूप में अपनी दुकान के बारे में विवरण पोस्ट कर सकते हैं और अपने इलाके में ब्रोशर, पत्रक आदि वितरित करके इसे और अधिक फैलाने का प्रयास कर सकते हैं।

अच्छा पैसा कमाने के लिए पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय शुरू करने की लागत कितनी हैं?

पेपर स्ट्रॉ बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए, आपके पास कम से कम 5 से 6 लाख रुपये की पूंजी होनी चाहिए। इसमें दुकान की कीमत, उपयोग की गई सामग्री, लाइसेंसिंग, खरीदी गई मशीनरी के लिए शुल्क और दुकान के लिए अनुमति प्राप्त करने और कुछ अन्य विविध शुल्क शामिल हैं। यदि आपके पास पूरी पूंजी की आवश्यकता नहीं है तो आप स्टार्ट-अप उद्देश्य के लिए बैंक से ऋण भी प्राप्त कर सकते हैं। आप सरकारी योजनाओं और सब्सिडी का भी लाभ उठा सकते हैं क्योंकि इस परियोजना में पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों का निर्माण शामिल है।

अन्य बिज़नेस आइडियाज जो आपको पसंद आएंगे:

पेपर कप बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें? बाजार क्षमता, आवश्यक पूंजी और मार्केटिंग

भारत में पेपर बैग बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

सिल्वर पेपर बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें?

Previous articleपेपर प्लेट बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें?
Next articleपेपर कप बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें? बाजार क्षमता, आवश्यक पूंजी और मार्केटिंग
किरण पाटील मुंबई महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और आईटी और जीके से संबंधित कई ब्‍लॉगर्स के मालिक हैं। उन्होंने अपना ग्रैज्‍युएशन कंप्‍युटर साइंस में पूरा किया हैं। लेकिन जबकि ब्‍लॉगिंग में वे पिछले पाँच साल से अधिक समय से जुड़े हैं, वे इसके साथ अन्य कई सोर्स से पैसे कमा रहे हैं। और इसी वजह से उन्होंने पैसे कैसे कमाएं इस विषय पर महारत हासिल की हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.