ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस कैसे शुरू करें?

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस कैसे शुरू करें | How To Start Online Magazine Business in Hindi

भारत में ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय कैसे शुरू करें इस पर परिचय: कई दशकों से, भारत पेपर्स और मैगज़ीन्‍स प्रकाशित कर रहा है। आज, अधिकांश भारतीय अखबार, मैगज़ीन और अन्य पढ़े जाने वाली सामग्री के साथ अपनी सुबह की चाय लेने की विलासिता का आनंद नहीं उठा सकते। इसने विशेषज्ञों को एक अलग समाधान के साथ आने के लिए प्रेरित किया। इस प्रकार, भारतीय बाजार में ऑनलाइन मैगज़ीन फॉर्मेट तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं।

विषय सूची

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस कैसे शुरू करें | How To Start Online Magazine Business in Hindi

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस कैसे शुरू करें - How To Start an Online Magazine Business in Hindi

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय के लाभ (Online Magazine Business Benefit)

  • दृढ़ता – जब तक प्रकाशित करने के लिए पर्याप्त सामग्री है, तब तक ऑनलाइन मैगज़ीन्स संचालित होती रहेंगी। पोर्टल-आधारित प्रकाशनों की सामग्री हमेशा उपलब्ध होती है, और वे अनंत काल तक संरक्षित भी रहती हैं।
  • इंटरएक्टिव – ऑनलाइन मैगज़ीन्स का व्यक्तियों पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इन ऑनलाइन वर्शन में, पाठकों को कई लिंक मिलेंगे जो उन्हें अन्य साइटों पर रिडाइरेक्‍ट करते हैं।
  • पर्यावरण के अनुकूल – एक मैगज़ीन को प्रिंट करने के लिए पारंपरिक रूप से कागज की आवश्यकता होती है। कागज निर्माण पर्यावरण के अनुकूल नहीं है क्योंकि इसे बनाने के लिए बड़ी संख्या में पेड़ों को काटने की जरूरत होती है। इसलिए यह ऑनलाइन जाने का सबसे व्यावहारिक और पर्यावरण के अनुकूल विकल्प है।
  • किफ़ायती – चूंकि ऑनलाइन मैगज़ीन्स में दर्शकों और पाठकों का विस्तार होता है, इसलिए प्रकाशकों द्वारा सदस्यता लागत को कम किया जा सकता है। यह ई-प्रकाशन को प्रिंटेड प्रकाशनों की तुलना में अधिक किफायती और लागत प्रभावी बनाता है।

तो अब आइए देखते हैं Online Magazine Business Kaise Shuru Kare, इस पर स्‍टेप-बाइ-स्‍टेप गाइड़

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस प्‍लान (Online Magazine Business Plan in Hindi)

  • एक बिज़नेस प्‍लान तैयार करें – आप जिस भी व्यवसाय को लॉन्च करना चाहते हैं, आपको एक मजबूत बिज़नेस प्‍लान तैयार करने की आवश्यकता है। पहला कदम महत्वपूर्ण है, और यदि इसे ठीक से संभाला नहीं गया है, तो विफलता होगी। आपके बिज़नेस प्‍लान में उन लक्ष्यों का पता लगाने के लिए मार्गदर्शक सिद्धांत शामिल होने चाहिए, जिन्हें आप प्राप्त करना चाहते हैं और जिन तरीकों से आप उन तक पहुंचने की योजना बना रहे हैं।
  • टार्गेट रिडर्स के बारे में जानकारी एकत्र करें – एक ऑनलाइन मैगज़ीन के प्रकाशन पर काम शुरू करने से पहले, गहन शोध किया जाना चाहिए। यह आपको डेटा प्रदान करेगा जो आपके रिडर्स को टार्गेट करने में आपकी सहायता कर सकता है। अपने लक्षित दर्शकों के अनुसार, आपको उस प्रकार की सामग्री को तैयार करना चाहिए जिसे आप प्रकाशित करेंगे।
  • बाजार की क्षमता का विश्लेषण करें – बाजार में अपने प्रतिस्पर्धियों के साथ अपडेटेड रहना बहुत महत्वपूर्ण है। वे आपके प्रत्यक्ष प्रतियोगी होंगे। उनके बिज़नेस मॉडल और कंटेंट पर करीब से नज़र डालने से आपको पोर्टल-आधारित मैगज़ीन व्यवसाय के बारे में जानकारी मिलेगी।
  • आवश्यक फंड जमा करना – बड़ी और छोटी मैगज़ीन्स के लिए पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है। हालांकि, एक प्रिंट पब्लिकेशन की तुलना में, कम आवश्यकताएं हैं। यदि आपके पास अकेले मांगों को पूरा करने के लिए वित्तीय संसाधनों की कमी है, तो आपको वित्तपोषण प्राप्त करने की व्यवस्था करनी चाहिए।

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय के लिए प्रतिनिधित्व बनाएँ

  • एक उचित नाम चुनें: जैसे ही आपने योजना का हिस्सा पूरा कर लिया है, आप सही नाम के लिए अपनी खोज शुरू कर सकते हैं। किसी नाम के चयन के लिए कुछ गहन शोध की आवश्यकता होती है क्योंकि यह न केवल कंटेंट प्रकार और टार्गेट ग्राहकों से मेल खाना चाहिए बल्कि यूनिक भी होना चाहिए।
  • एक डोमेन नाम प्राप्त करें: किसी भी वर्चुअल कंपनी के लिए एक ऑनलाइन वेबसाइट एक आवश्यकता है। वेबसाइट बनाने के लिए एक यूनिक और आकर्षक डोमेन नाम की आवश्यकता होती है। एक वेबसाइट बनाने के लिए पहला कदम एक डोमेन नाम रजिस्टर करना है और भारत में, कई डोमेन रजिस्ट्रियां और होस्टिंग प्रोवाइडर्स हैं जैसे GoDaddy जो वेबसाइटों के लिए होस्टिंग स्‍पेस प्रदान करते हैं। आपको वेबसाइट पर लॉग इन करने की आवश्यकता है, यह सत्यापित करने के लिए कि चुना हुआ नाम उपलब्ध है या नहीं, आपको एक नए नाम का उपयोग शुरू करना होगा। आपकी आवश्यकताओं और उपलब्धता के आधार पर, आप .com, .in और .co.in के बीच एक डोमेन नाम प्राप्त कर सकते हैं। साइट के आधार पर, डोमेन पैकेज की कीमत 500 रुपये से 1000 रुपये के बीच हो सकती है।
  • होस्टिंग स्पेस प्राप्त करें: एक बार डोमेन नाम रजिस्टर हो जाने के बाद, अगला कदम होस्टिंग स्पेस खरीदना होगा। डोमेन रजिस्टर करने वाली कई कंपनियां होस्टिंग सेवाएं भी प्रदान करती हैं। वेबसाइट को एक्टिव करने के लिए सर्वर स्थान की आवश्यकता होती है और यह होस्टिंग प्रदाताओं द्वारा प्रदान किया जाता है। इस सेवा की वार्षिक सदस्यता की कीमत 900 रु. से 1500 रु. के बीच हो सकती हैं।

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस शुरू करने के लिए वांछनीय टीम (Team To Start Online Magazine Business)

एक बार जब आप अपना बिज़नेस प्‍लान, अपने वित्त पोषण और अपने मार्केट रिसर्च को पूरा कर लेते हैं, तो यह मानव संसाधन विभाग पर ध्यान केंद्रित करने का समय है। एक ऑनलाइन प्रकाशन के लिए अपनी टीम के समर्पण के बिना सफल होना असंभव है। लेखकों, संपादकों, फोटोग्राफरों, प्रूफरीडरों और फोटो एडिटर्स की एक टीम प्राजेक्‍ट पर काम करती है। इनके अलावा, आपको मार्केटिंग विशेषज्ञों, पब्लिकेशन मैनेजर्स, सेल्‍स मैनेजर्स आदि की आवश्यकता होती है।

कंटेंट निर्माण और पोस्टिंग

  1. कंटेंट लिखना: एक मैगज़ीन को पाठकों को समृद्ध, सूचनात्मक कंटेंट प्रदान करने की आवश्यकता होती है, चाहे वह ऑनलाइन हो या प्रिंटेड। कोई भी कहानी अपने आप नहीं लिखी जाएगी। एक मैगज़ीन की लोकप्रियता उसके कंटेंट की गुणवत्ता से निर्धारित होती है। इसलिए, एक कॉपीराइटर का काम मनोरंजक और आकर्षक कहानियों का निर्माण करना है। यह लेखन को उत्पादन में पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम बनाता है।
  2. प्रूफरीडर या कॉपीरीडर: कहानी लिखते समय, लेखक टाइपो की त्रुटियाँ कर सकते हैं। अंतिम कंटेंट की एक प्रति प्रूफ़रीडर को प्रदान की जाएगी। इन लोगों को कॉपी रीडर के नाम से भी जाना जाता है। व्याकरण का गहन ज्ञान होने के साथ-साथ ये विशेषज्ञ बड़ी संख्या में शब्दों से भी परिचित हैं। इसलिए वे कॉपी पढ़ते हैं, सुनिश्चित करते हैं कि इसमें कोई त्रुटि नहीं है, इसे ठीक करते हैं और इसे संपादक को भेजते हैं।
  3. अंतिम सुधार करना: जब यह कॉपी संपादक के डेस्क पर पहुँचती है, तो यह तय किया जाता है कि इसे स्वीकार किया जाएगा या अस्वीकार कर दिया जाएगा। अंत में, संपादक निर्णय करता है। कॉपी उपयुक्त विभाग को भेजी जाएगी यदि वह निर्णय लेता है कि इसे पोस्ट किया जाना चाहिए। इस घटना में कि संपादक को और सुधार करने की आवश्यकता है, लेख लेखक को वापस भेज दिया जाएगा।
  4. फोटो साक्ष्य प्रदान करना: यह केवल कंटेंट ही नहीं है जो पाठकों को किसी मैगज़ीन की ओर आकर्षित करती है, बल्कि लेखों के साथ आने वाले रंगीन चित्र भी। हर मैगज़ीन के लिए, पूर्णकालिक स्टाफ फोटोग्राफर कंटेंट के साथ सही तस्वीरें खींचने के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  5. बेहतर प्रभाव के लिए पेज को डिजाइन करना: समाचार पत्र दिखने में पारंपरिक और औपचारिक होते हैं। दूसरी ओर, ऑनलाइन मैगज़ीन्स अनौपचारिक होती हैं। पेज लेआउट डिज़ाइनर को कंटेंट और फ़ोटोग्राफ़ चुनने के बाद उन्हें प्राप्त होता है। वह देखने के लिए आकर्षक एलिमेंट को जोड़ने और प्रत्येक कंटेंट को रणनीतिक रूप से स्थान देने के लिए जिम्मेदार है।
  6. अंतिम प्रोटोटाइप का निर्माण: उत्पाद के उत्पादन में अंतिम प्रोटोटाइप बनाना दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कदम है। प्रोटोटाइप आपको ऑनलाइन प्रकाशन के अंतिम रूप की एक झलक देगा। संपादकों द्वारा प्रोटोटाइप के अनुमोदन के बाद, अगला कदम कंटेंट का डिजिटलीकरण करना होगा।
  7. कंटेंट का डिजिटलीकरण – विभिन्न सॉफ्टवेयर प्रोग्राम प्रोटोटाइप के निर्माण, सुधार करने और डिजाइन करने में सहायता कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, साइट पर कंटेंट को डिजिटाइज़ और पोस्ट करते समय WordPress, Contentful और BuzzSprout मददगार हो सकते हैं। मैगज़ीन को सही तरीके से लॉन्च करने का अंतिम चरण इन स्पेसिफिकेशन्स के अनुसार फ़ाइल को डिजिटाइज़ करना है।

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय के लिए आवश्यक लाइसेंस या परमिशन

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय के लिए किसी परमिट की आवश्यकता नहीं है

न्यूज़पेपर्स और मैगज़ीन्स में रजिस्ट्रेशन की एक लंबी और जटिल प्रक्रिया होती है। Registrar of Newspapers for India (RNI) शीर्ष अथॉरिटी है जो रजिस्ट्रेशन प्रमाण पत्र जारी करता है। वर्तमान में, हालांकि, ऐसे कोई कानून नहीं हैं जो प्रकाशनों को रजिस्ट्रेशन करने की आवश्यकता को उजागर करते हैं जो केवल वर्चुअली संचालित होते हैं। आप केवल एक ही काम कर सकते हैं: नाम रजिस्‍टर करवाएं ताकि कोई अन्य ऑनलाइन मैगज़ीन अपनी वेबसाइट का नाम उसी के नाम पर न रख सके।

आवश्यक कर्मचारी (Employees for Online Magazine Business)

यदि आपके पास एक उत्साही टीम है जो समन्वय और सहयोग करती है, तो आप घर से एक ऑनलाइन मैगज़ीन संचालित कर सकते हैं। ऑनलाइन मैगजीन्स आमतौर पर कई कर्मचारियों द्वारा संचालित की जाती हैं। शुरुआत में, आपके पास मैगज़ीन पर काम करने वाले तीन से पांच लोग हो सकते हैं, जो इसके आकार और आपके द्वारा प्रकाशित की जाने वाले कंटेंट पर निर्भर करता है।

ऑपरेशन को सफलतापूर्वक चलाने के लिए, आपको कंटेंट निर्माता, एडिटर, फोटोग्राफर और वेब डिज़ाइनर की आवश्यकता होगी। संपादन के अलावा, संपादक कंटेंट को प्रूफरीड भी कर सकते हैं। जैसे-जैसे व्यवसाय बढ़ता है, वे मूल रूप से बनाई गई कंटेंट का उत्पादन करने के लिए दूसरों को काम पर रख सकते हैं।

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस में पैसे कैसे कमाए (How to Make Money With Online Magazine Business)

अधिकांश ऑनलाइन मैगज़ीन्‍स  पैसा कमाने के एजेंडे पर काम करती हैं। ऑनलाइन मैगज़ीन्स के कारोबार से पैसे कमाने के कई तरीके हैं। सदस्यता संरचना वाली कई मैगज़ीन्स हैं जहाँ पाठक हर महीने या सालाना सदस्यता शुल्क का भुगतान करते हैं। केवल सब्सक्रिप्शन पर निर्भर रहना पर्याप्त नहीं है। ऑनलाइन विज्ञापन आपकी निचली पंक्ति में जोड़ सकते हैं।

यदि आपकी मैगज़ीन में एक ब्लॉग सेक्‍शन है, तो ब्लॉग-विशिष्ट प्रमोशनल मैसेज आपको कुछ पैसे कमा कर दे सकते हैं। किसी कंपनी से सीधे संपर्क करने से भी मदद मिलेगी। यदि आपके पास पर्याप्त ट्रैफ़िक है तो आपकी साइट को एक संभावित मार्केटिंग टूल के रूप में माना जाएगा। आपकी वेबसाइट पर ऑनलाइन विज्ञापन प्रदर्शित होने से आपके लिए पर्याप्त राशि उत्पन्न होगी। Affiliate Marketing भी राजस्व उत्पन्न कर सकता है। आप अपने मैगज़ीन पेजेज पर एफिलिएट लिंक पोस्ट कर सकते हैं। आपको बिक्री का एक निश्चित प्रतिशत प्राप्त होगा जो लोग इन लिंक्स पर क्लिक करने के बाद करते हैं।

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस के लिए आवश्यक निवेश (Investment To Start Online Magazine Business)

यदि आप एक ऑनलाइन मैगज़ीन शुरू करना चाहते हैं तो छोटे स्तर पर एक ऑनलाइन मैगज़ीन पर बहुत अधिक पैसा खर्च करना आवश्यक नहीं है। एक डोमेन और होस्टिंग स्पेस खरीदने पर आपको लगभग 3,000 का खर्च आएगा। दोनों भुगतान सालाना किए जाने की जरूरत है। आपको केवल तीन सदस्यों की एक बहुत छोटी टीम को भुगतान करने के लिए एक अलग बजट बनाना पड़ सकता है, क्योंकि अधिकांश डोमेन नाम और होस्टिंग स्पेस प्रोवाइडर्स लगभग 900 रुपए प्रत्येक पैकेज के आधार पर चार्ज करते हैं। दूसरे शब्दों में, आप एक पोर्टल-आधारित मैगज़ीन लॉन्च कर सकते हैं, जिसमें कम से कम 40,000 रुपए से 50,000 रुपए की जरूरत हैं।

ऑनलाइन मैगज़ीन बिज़नेस में लाभ (Profits in Online Magazine Business)

लाभ तुरंत नहीं आएगा। ऑडियंस आपके कंटेंट की क्‍वालिटी से आकर्षित होती है, और विज्ञापनदाता ट्रैफ़िक से आकर्षित होते हैं। यदि आपके पाठक कंटेंट को पसंद करते हैं और आपको अच्छी मात्रा में ट्रैफ़िक प्राप्त होता है, तो विज्ञापनों और स्पोंसरशिप्स को सुरक्षित करना आसान होगा। यदि उन्हें लगता है कि मैगज़ीन में क्षमता है, तो पाठक सदस्यता शुल्क का भुगतान करने में संकोच नहीं करेंगे। पहले कुछ महीनों के दौरान, आप 15% से 18% लाभ कमाने की उम्मीद कर सकते हैं। मल्टीप्लेटफॉर्म मेथड के उपयोग से समय के साथ राजस्व में वृद्धि होगी।

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय में शामिल जोखिम (Risks in Online Magazine Business)

एक ऑनलाइन प्रतिनिधित्व वह सब हो सकता है जिसकी आपको शुरुआत करने की आवश्यकता है। फिर भी, यदि आप तालाब में बड़ी मछली के साथ तैरना चाहते हैं तो विविधता लाना एक आवश्यकता है। यदि आपके पास कोई प्रिंट वर्शन नहीं है और कोई वेबसाइट नहीं है, तो केवल एक ऑनलाइन मैगज़ीन पेज होना पर्याप्त नहीं है। मार्केटिंग के लिए एक मल्‍टी-प्‍लैटफॉर्म दृष्टिकोण विकसित करना अनिवार्य है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी कंटेंट उच्चतम गुणवत्ता के हो, तो आपको इसे सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए। यदि गुणवत्ता गिरती है, तो आपकी आय भी गिर जाएगी। सुनिश्चित करें कि आप पाठकों और प्रायोजकों के संपर्क में रहें। आपके पाठक और प्रायोजक आपकी मैगज़ीन से क्या चाहते हैं, इस पर नज़र रखना महत्वपूर्ण है।

ऑनलाइन मैगज़ीन व्यवसाय के लिए मार्केटिंग और विज्ञापन टिप्‍स

  • पारंपरिक प्रचार: एक सफल व्यवसाय उचित प्रचार पर निर्भर करता है। यदि आप वांछित श्रोताओं को प्राप्त करना चाहते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप मैगज़ीन को ज्ञात करें। विज्ञापन के पारंपरिक साधन, जैसे कारों के पीछे पैम्फलेट, अखबार और मैगज़ीन के विज्ञापन, और रेडियो और टेलीविजन विज्ञापन, आपके काम में मदद करेंगे।
  • सोशल मीडिया टूल्स: सभी सोशल प्लेटफॉर्म पर अकाउंट बनाएं और मेंटेन रखें। अपनी कंटेंट को इन प्रोफाइल से जोड़कर, आपके रिडर्स हमेशा ताजा खबरों से अवगत रहेंगे। इसका उपयोग करके, आप यह तय करने में सक्षम होंगे कि आपके द्वारा प्रदान की जाने वाले कंटेंट के अनुरूप कौन से क्लाइंट के साथ काम करना है। आप तुरंत अधिक लोगों तक पहुंचने में सक्षम होंगे। आप मित्रों और परिवार से उनके व्यक्तिगत प्रोफाइल पर लिंक पोस्ट करने के लिए कह सकते हैं ताकि अधिक लोग मैगज़ीन के बारे में जान सकें।
  • ईमेल मार्केटिंग प्रक्रिया: यदि आपके पास पर्याप्त रिडर्स हैं तो आप अपनी मार्केटिंग रणनीति के हिस्से के रूप में ईमेल मार्केटिंग का भी उपयोग कर सकते हैं। उन्हें प्रासंगिक संदेश भेजने के अलावा, यह उन्हें यह भी महसूस कराएगा कि वे एक सकारात्मक अनुभव का हिस्सा हैं।

अन्य बिज़नेस आइडियाज जो आपको पसंद आएंगे:

12 ऑनलाइन बिज़नेस आइडियाज – जो 25,000 रुपये से भी कम निवेश पर शुरू होंगे

भारत में ड्रॉपशीपिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें

Previous articleभारत में अमेज़न डिलीवरी फ्रैंचाइज़ी का बिज़नेस कैसे शुरू करें?
Next article50,000 रुपये से कम पर भारत के टॉप 10 फ्रेंचाइजी
किरण पाटील मुंबई महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और आईटी और जीके से संबंधित कई ब्‍लॉगर्स के मालिक हैं। उन्होंने अपना ग्रैज्‍युएशन कंप्‍युटर साइंस में पूरा किया हैं। लेकिन जबकि ब्‍लॉगिंग में वे पिछले पाँच साल से अधिक समय से जुड़े हैं, वे इसके साथ अन्य कई सोर्स से पैसे कमा रहे हैं। और इसी वजह से उन्होंने पैसे कैसे कमाएं इस विषय पर महारत हासिल की हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.