डीमैट अकाउंट क्या है?

What is Demat Account in Hindi | डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक डिजिटल लॉकर (तिजोरी) है जो आपकी वित्तीय संपत्तियों को ‘इलेक्ट्रॉनिक’ रूप में संग्रहीत करता है। एक डीमैट अकाउंट शेयरों, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड, एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) आदि जैसी संपत्तियों को स्टोर करता है।

फिजिकल शेयर ट्रेडिंग को समाप्त करने के लिए 1996 में भारत में डीमैट अकाउंट पेश किए गए थे। फिजिकल शेयर ट्रेडिंग में चोरी, हानि, नकली प्रमाण पत्र और समय लगता था। क्या आप जानते हैं कि डीमैट अकाउंट से पहले, सेटलमेंट चक्र में 14 दिन लगते थे!

लेकिन 1996 में सब कुछ बदल गया क्योंकि भारतीय बाजारों ने ‘डीमटेरियलाइजेशन’ को अपनाया। Demat शब्द Dematerialisation के लिए शॉर्ट फॉर्म है। यह फिजिकल शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है। जब शेयर डीमैट फॉर्म में होते हैं, तो यह हानि, चोरी या जालसाजी के जोखिम को समाप्त करता है। यहां तक ​​कि सेटलमेंट चक्र भी 14 से 2 कार्य दिवसों तक कम हो गया!

डीमैट अकाउंट ने भारत में शेयरों के कारोबार के तरीके को बदल दिया है। आज भारत में 4 करोड़ से अधिक डीमैट अकाउंट हैं! फिर भी अधिकांश निवेशक अभी भी इस बात को लेकर असमंजस में हैं कि डीमैट अकाउंट क्या है? इस लेख में वह सब कुछ शामिल है जो आपको भारत में डीमैट अकाउंट के बारे में जानने की आवश्यकता होगी।

विषय सूची

What is Demat Account in Hindi | डीमैट अकाउंट क्या है?

What is Demat Account in Hindi - डीमैट अकाउंट क्या है
Image Credit:https://pixabay.com/photos/chart-stock-investing-market-app-6511112/

डीमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट है जिसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में शेयरों और सिक्योरिटीज को रखने के लिए किया जाता है।

Full Form of Demat Account in Hindi

Demat Account Full Form – Dematerialised अकाउंट है।

डीमैट अकाउंट का फुल फॉर्म डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट है।

डीमैट अकाउंट ओपन करने का उद्देश्य उन शेयरों को होल्ड करना है जिन्हें खरीदा या डीमैटरियलाइज़ किया गया है (फिजिकल से इलेक्ट्रॉनिक शेयरों में कनवर्टेड), इस प्रकार ऑनलाइन ट्रेडिंग के दौरान यूजर्स के लिए शेयर ट्रेडिंग को आसान बनाते हैं।

भारत में, NSDL और CDSL जैसे डिपॉजिटरी मुफ्त डीमैट अकाउंट सेवाएं प्रदान करते हैं। बिचौलिए, डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स या स्टॉकब्रोकर – इन सेवाओं की सुविधा प्रदान करते हैं। प्रत्येक मध्यस्थ के पास डीमैट अकाउंट शुल्क अलग हो सकते हैं जो अकाउंट में रखी गई मात्रा, सदस्यता के प्रकार और डिपॉजिटरी और स्टॉकब्रोकर के बीच नियम और शर्तों के अनुसार भिन्न हो सकते हैं।

Demat Account Kya Hai | डीमैट अकाउंट क्या है?

एक डीमैट अकाउंट या डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में शेयरों और सिक्योरिटीज को रखने की सुविधा प्रदान करता है। ऑनलाइन ट्रेडिंग के दौरान, शेयरों को डीमैट अकाउंट में खरीदा और रखा जाता है, इस प्रकार, यूजर्स के लिए आसान ट्रेडिंग की सुविधा होती है। एक डीमैट अकाउंट एक ही स्थान पर शेयरों, सरकारी सिक्योरिटीज, एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड, बॉन्ड और म्यूचुअल फंड में किए गए सभी निवेशों को रखता है।

What is Dematerialisation in Hindi | डीमैटीरियलाइजेशन क्या है?

डीमटेरियलाइजेशन फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट्स को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है, जिसे बनाए रखना बहुत आसान है और दुनिया भर में कहीं से भी एक्‍सेस किया जा सकता है।

एक निवेशक जो ऑनलाइन ट्रेड करना चाहता है, उसे डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के साथ डीमैट ओपन करना होगा। Dematerialisation का उद्देश्य निवेशक के लिए फिजिकल शेयर प्रमाणपत्र रखने की आवश्यकता को समाप्त करना और होल्डिंग्स की एक सहज ट्रैकिंग और निगरानी की सुविधा प्रदान करना है।

What is Demat Account Meaning in Hind | डीमैट अकाउंट का अर्थ क्या है?

डीमैट अकाउंट का मतलब डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट है। डीमैट अकाउंट बैंक अकाउंट की तरह होता है। जबकि एक बैंक अकाउंट आपके पैसे को संग्रहीत करता है, एक डीमैट अकाउंट आपकी ‘सिक्योरिटीज’ को डिजिटल रूप में संग्रहीत करता है।

आइए एक सरल उदाहरण के साथ समझते हैं कि डीमैट अकाउंट क्या है।

आप नए जूते खरीदने के लिए जूते की दुकान पर जाते हैं। आप उन्‍हें ट्राई करते हैं और उन्हें खरीदने का फैसला करते हैं। जैसे ही आप पेमेंट काउंटर पर जाते हैं, विक्रेता चिल्लाता है, ‘छोटू पैक्ड पीस दे’। और एक पैक्ड बॉक्स आसमान से गिरता है! (ओवरहेड गोदाम)।

ध्यान दें कि खरीद-बिक्री जूते की दुकान में होती है। लेकिन असली जूते गोदाम में रखे जाते हैं। जब भी कोई ग्राहक जूता खरीदता है तो गोदाम से एक नया बक्सा दिया जाता है।

इस उदाहरण में, गोदाम आपका डीमैट अकाउंट है और जूते की दुकान आपका ट्रेडिंग अकाउंट है।

आप संपत्ति को डीमैट अकाउंट में स्टोर करते हैं

आप इन संपत्तियों को अपने ट्रेडिंग अकाउंट से खरीदते और बेचते हैं।

डीमैट अकाउंट के लाभ | Advantage of a Demat Account

एक डीमैट अकाउंट के साथ आपकी सभी सिक्योरिटीज जैसे शेयर, विकल्प, वायदा, कमोडिटी, म्यूचुअल फंड, डिबेंचर, ईटीएफ और बॉन्ड इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में संग्रहीत किए जाते हैं। आपके लिए इन सिक्योरिटीज को खरीदना, बेचना और रखना और एक ही विंडो से अपने निवेश पोर्टफोलियो को ट्रैक करना आसान है। एक डीमैट अकाउंट 6 प्रमुख लाभ प्रदान करता है जो निवेश और व्यापार में सफलता के लिए महत्वपूर्ण हैं।

1. आसान और निरंतर एक्‍सेस

एक अच्छी गुणवत्ता वाला डीमैट सर्विस अकाउंट आपको किसी भी डिवाइस पर दुनिया में कहीं से भी मार्केट का 24×7 एक्‍सेस प्रदान करता है। ट्रेड करने, निवेश करने या अपने पोर्टफोलियो को ट्रैक करने के लिए आपको अपने ऑफिस में होने की आवश्यकता नहीं है; आप अपने अकाउंट को डेस्कटॉप, लैपटॉप, टैबलेट या स्मार्टफोन के माध्यम से आसानी से एक्सेस कर सकते हैं।

2. लिक्विडिटी

लिक्विडिटी या अपनी सिक्योरिटीज को बेचने की क्षमता जब भी आपको धन की आवश्यकता होती है, वित्तीय बाजारों में व्यापार और निवेश का एक महत्वपूर्ण पहलू है। फिजिकल शेयरों और प्रमाणपत्रों के साथ, तेजी से लिक्विडिटी प्राप्त करना बहुत मुश्किल है, लेकिन डीमैट अकाउंट के साथ आप अगले दिन बाजार के फिर से खुलने पर खरीदने या बेचने के लिए तैयार हो जाते हैं। एक डीमैट सर्विस के साथ आप आसानी से खरीद या बिक्री का ऑर्डर दे सकते हैं और किसी भी महत्वपूर्ण मूल्य परिवर्तन से पहले कुछ सेकंड के भीतर इसे एक्सेक्यूट कर सकते हैं।

3. सुविधा

डीमैट अकाउंट के साथ सिक्योरिटीज में लेनदेन करना तेज़ और सुविधाजनक है। यदि आपके पास 2-इन-1 डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट है तो यह और भी सुविधाजनक है, क्योंकि यह आपको निर्बाध रूप से व्यापार और निवेश करने की अनुमति देता है।

सुनिश्चित करें कि लेन-देन को पूरा करने में देरी से बचने के लिए आपका डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट एक ही ब्रोकर के पास है।

4. स्‍पीड और एफिशिएंसी

भारत में डीमैट सेवाओं के पूर्ण रूप से विकसित होने से पहले, निवेशकों को अपने अकाउंट में धनवापसी, ब्याज और लाभांश के क्रेडिट के लिए हफ्तों और कभी-कभी महीनों तक इंतजार करना पड़ता था। डीमैट अकाउंट की बदौलत लाभांश, अधिकार, बोनस और स्टॉक स्प्लिट प्राप्त करना, साथ ही आईपीओ में निवेश करना तेज और आसान है।

5. कम जोखिम

चोरी, नुकसान या क्षति के कारण फिजिकल सिक्योरिटीज जोखिम भरी होती हैं। इसके अलावा, खराब डिलीवरी या नकली सिक्योरिटीज और जोखिम पैदा करती हैं। डीमैट अकाउंट ओपन करने के साथ ये जोखिम पूरी तरह समाप्त हो जाते हैं, जो धारकों को अपने सभी निवेशों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखने का विकल्प प्रदान करता है।

6. कम लागत

फिजिकल प्रमाणपत्रों में कई अतिरिक्त लागतें शामिल थीं, जैसे कि स्टाम्प ड्यूटी, हैंडलिंग शुल्क और ऐसे अन्य खर्च। ये अतिरिक्त खर्च डीमैट अकाउंट से पूरी तरह समाप्त हो जाते हैं।

डीमैट अकाउंट सरल, उपद्रव मुक्त और बेहद आकर्षक होते हैं। आज के दौर में फाइनेंशियल प्लानिंग के लिए ये बहुत जरूरी हैं।

आपको डीमैट अकाउंट की आवश्यकता क्यों है? (Why Do You Need a Demat Account?)

फिजिकल सिक्योरिटीज का इलेक्ट्रॉनिक रूप में रूपांतरण वैकल्पिक है क्योंकि एक निवेशक को सिक्योरिटीज को फिजिकल या इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में रखने की अनुमति है। हालांकि, फिजिकल प्रमाणपत्रों की निगरानी इसके डीमैटेरियलाइज्ड समकक्षों की तुलना में अधिक कठिन है।

इसके अतिरिक्त, सिक्योरिटीज को फिजिकल रूप में खरीदना या बेचना मुश्किल है। फिजिकल शेयरों में काम करने वाले एजेंटों की संख्या, साथ ही फिजिकल शेयरों को खरीदने के इच्छुक खरीदारों की संख्या, डीमैटरियलाइज्ड सिक्योरिटीज में लेनदेन करने वाले व्यक्तियों की तुलना में बहुत कम है।

शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए? 

डीमैट अकाउंट की विशेषताएं (Features of Demat Account)

1. आसान शेयर ट्रांसफर्स:

निवेशक शेयर खरीदने या बेचने के लिए डिलीवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप (DIS) या रसीद इंस्ट्रक्शन स्लिप (RIS) के जरिए अपनी होल्डिंग ट्रांसफर कर सकते हैं। ये स्लिप यूजर्स को लेनदेन को सुचारू रूप से निष्पादित करने के लिए आवश्यक सभी विवरण प्रदान करने की अनुमति देती हैं।

2. सिक्योरिटीज का तेजी से डीमैटरियलाइजेशन और रीमैटरियलाइजेशन

डीमैट अकाउंटधारक अपने डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) को फिजिकल प्रमाणपत्रों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदलने के निर्देश दे सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, यदि आवश्यक हो, तो इलेक्ट्रॉनिक सिक्योरिटीज को फिजिकल रूप में भी परिवर्तित किया जा सकता है।

3. ऋण लेने के लिए गिरवी रखने की सुविधा

कई ऋणदाता सिक्योरिटीज पर ऋण प्रदान करते हैं जो उधारकर्ताओं के डीमैट अकाउंट में होती हैं। इन होल्डिंग्स को अकाउंटधारकों द्वारा ऋण प्राप्त करने के लिए संपार्श्विक के रूप में उपयोग किया जाता है।

4. फ्रीजिंग डीमैट अकाउंट

यदि आवश्यक हो तो डीमैट अकाउंटधारक एक निश्चित अवधि के लिए अपने अकाउंट को फ्रीज कर सकते हैं। यदि कोई अपने डीमैट अकाउंट में अप्रत्याशित डेबिट या क्रेडिट को रोकना चाहता है तो यह विकल्प फायदेमंद हो सकता है। अकाउंट में रखी गई सिक्योरिटीज की एक विशिष्ट मात्रा के लिए फ्रीजिंग विकल्प भी उपलब्ध है।

5. मल्टीपल एक्‍सेस ऑप्‍शन

डीमैट अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक रूप से संचालित होते हैं, जिसका अर्थ है कि इन्हें कई मोड का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है। इन अकाउंट को कंप्यूटर, स्मार्टफोन या अन्य स्मार्ट उपकरणों का उपयोग करके इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है।

6. स्पीड ई-सुविधा:

नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) यूजर्स को डीपी को फिजिकल रूप से पर्ची जमा करने के बजाय इलेक्ट्रॉनिक रूप से निर्देश पर्ची भेजने की अनुमति देता है। यह प्रक्रिया को अधिक सुविधाजनक और कम समय लेने वाली बनाता है।

7. कॉर्पोरेट लाभ और कार्य

यदि कंपनियां अपने निवेशकों को लाभांश, धनवापसी या ब्याज की पेशकश करती हैं, तो ये लाभ डीमैट अकाउंटधारकों के लिए स्वतः उपलब्ध हो जाते हैं। इसके अलावा, सभी शेयरधारकों के डीमैट अकाउंट में बोनस इश्यू, राइट शेयर या स्टॉक स्प्लिट जैसी कॉर्पोरेट कार्रवाइयां स्वचालित रूप से अपडेट हो जाती हैं।

शेयरों का डीमैटरियलाइजेशन और रिमैटरियलाइजेशन (Dematerialisation & Rematerialisation of Shares)

शेयरों का डीमटरियलाइजेशन:

फिजिकल सिक्योरिटीज (शेयर, स्टॉक, म्यूचुअल फंड यूनिट, बॉन्ड, डिबेंचर, आदि) को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को डीमटरियलाइजेशन के रूप में जाना जाता है।

डीमटेरियलाइजेशन सुरक्षा और सुविधा के साथ लचीलापन प्रदान करता है। फिजिकल फॉर्मेट में शेयर प्रमाण पत्र रखने से प्रमाणपत्र जालसाजी, महत्वपूर्ण शेयर प्रमाणपत्रों की हानि, और प्रमाणपत्र हस्तांतरण में परिणामी देरी जैसे जोखिम होते हैं। डीमटेरियलाइजेशन ग्राहकों को अपने फिजिकल प्रमाणपत्रों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में बदलने की अनुमति देकर इन बाधाओं को दूर करता है।

शेयरों का रिमटरियलाइजेशन:

सिक्योरिटीज की इलेक्ट्रॉनिक होल्डिंग्स (शेयर, स्टॉक, म्यूचुअल फंड यूनिट, बॉन्ड, डिबेंचर, आदि) को फिजिकल रूप (प्रमाणपत्र) में बदलने की प्रक्रिया को रीमटेरियलाइजेशन के रूप में जाना जाता है।

रीमटेरियलाइजेशन की प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

  • अकाउंटधारक को एक रीमैट अनुरोध फॉर्म (RRF) भरना और इसे डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) को जमा करना होता हैं।
  • अनुरोध को सत्यापित करने के बाद, डीपी इसे डिपॉजिटरी को फॉरवर्ड करता है और धारक को एक हस्ताक्षरित और मुहर लगी पावती पर्ची जारी करता है।
  • डिपॉजिटरी (NSDL या CDSL) तब कंपनी के शेयर ट्रांसफर एजेंटों के इस अनुरोध की पुष्टि करता है
  • इसके बाद, शेयर ट्रांसफर एजेंट इन प्रमाणपत्रों को प्रिंट करता है और धारक को भेजता है और डिपॉजिटरी को एक पुष्टिकरण भेजता है
  • डीपी अकाउंटधारक को रीमैटेरियलाइजेशन की सूचना भेजता है

डीमैट अकाउंट कैसे ओपन करें | How to Open a Demat Account in Hindi

भारत में डीमैट अकाउंट खोलने के लिए चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका

चरण 1: ब्रोकर का चयन करें

एक डीमैट अकाउंट एक ब्रोकर के साथ ओपन किया जाता है, जिसे डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के रूप में भी जाना जाता है। भारतीय बाजार ब्रोकर्स से भरे पड़े हैं। लेकिन डीमैट अकाउंट ओपन करने के लिए ब्रोकर का चयन करने से पहले, आपको नीचे दी गई चेकलिस्ट को देखना होगा।

  • आपका ब्रोकर सेबी के साथ रजिस्टर्ड होना चाहिए।
  • आपके ब्रोकर को मुफ़्त डीमैट अकाउंट प्रदान करना होगा।
  • आपका ब्रोकर अच्छी तरह से पूंजीकृत होना चाहिए।
  • आपके ब्रोकर को 99.99% अपटाइम के साथ हाई टेक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करना चाहिए।
  • आपके ब्रोकर को न्यूनतम मार्जिन के मुकाबले उच्च लीवरेज प्रदान करना चाहिए।

एक बार जब आप ब्रोकर का चयन कर लेते हैं, तो अगला कदम डीमैट अकाउंट ओपन करने के लिए आवश्यक डयॉक्‍यूमेंट को जमा करना होता है।

चरण 2: डीमैट अकाउंट ओपन करने के लिए आवश्यक डयॉक्‍यूमेंट को जमा करें

डीमैट अकाउंट ओपन करने के लिए निम्नलिखित डयॉक्‍यूमेंट की आवश्यकता होती है।

  • पैनकार्ड – आप वैध पैनकार्ड के बिना डीमैट अकाउंट नहीं ओपन कर सकते।
  • फोटो
  • एड्रेस प्रूफ – आधार कार्ड, पासपोर्ट, वोटर कार्ड, हाल ही में बिजली या टेलीफोन बिल।
  • बैंक प्रमाण – कैंसल चेक या पासबुक का पहला पेज
  • आय प्रमाण – ITR फॉर्म 16, डीमैट स्टेटमेंट
  • हस्ताक्षर

चरण 3: डीमैट अकाउंट ओपन करने का फॉर्म भरें

डीमैट अकाउंट ओपन करने का आवेदन पत्र भरें और उपरोक्त डयॉक्‍यूमेंट जमा करें। 24-48 घंटों में आपका डीमैट अकाउंट एक्टिव हो जाएगा। कुछ ब्रोकर 3-इन-1 अकाउंट की पेशकश करते हैं। तो, आपको एक की कीमत पर एक डीमैट, ट्रेडिंग और म्यूचुअल फंड अकाउंट मिलता है!

चरण 4: अपने ट्रेडिंग अकाउंट में फंड जमा करें

एक बार आपका डीमैट अकाउंट ओपन हो जाने के बाद, आपको अपने ट्रेडिंग अकाउंट (आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा हुआ) को फंड करना होगा और ट्रेडिंग शुरू करनी होगी! यह इतना सरल है।

डीमैट अकाउंट ओपन करने का शुल्क (Demat Account Opening Charges)

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए, निवेशक आमतौर पर कुछ साल पहले तक 1000 रुपए तक का एकमुश्त शुल्क देते थे। आज, अधिकांश डीमैट अकाउंट को बिना पैसे के ओपन किए जा सकते है, हालांकि कुछ अकाउंट प्रदाता अभी भी एक ओपनींग शुल्क लेते हैं।

निवेशकों को विभिन्न प्रकार के अकाउंट जैसे कि बचत और जमा अकाउंट में संलग्न होने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, ब्रोकरेज हाउस और बैंक कई प्रकार के अकाउंट को जोड़ते हैं जो कॉम्बो अकाउंट प्रदान करते हैं जो निवेशकों को मुफ्त में डीमैट अकाउंट ओपन करने की अनुमति देते हैं।

डीमैट अकाउंट कस्टोडियन फीस (Demat Account Custodian Fees)

जब सिक्योरिटीज को फिजिकल रूप में संग्रहीत किया जाता था तो कस्टोडियन शुल्क बहुत आम थे। डीमैट अकाउंट आपको फिजिकल सिक्योरिटीज को स्टोर करने की आवश्यकता से मुक्त करते हैं, हालांकि कुछ डीपी अभी भी मामूली संरक्षक शुल्क लेते हैं।

शुल्क डीमैट अकाउंट में रखी गई सिक्योरिटीज की संख्या पर निर्भर करते हैं। ये शुल्क प्रत्येक अंतर्राष्ट्रीय सिक्योरिटीज पहचान संख्या के लिए 0.5 से 1 रुपए के बीच होते हैं, जो कि एक 12-नंबर का यूनिक कोड है जो सिक्योरिटीज की पहचान करता है।

डीमैट अकाउंट वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क (Demat Account Annual Maintenance Charges)

DP वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क लेते हैं। ये शुल्क अक्सर ट्रांजेक्शन्स की संख्या के आधार पर लगाए जाते हैं।

उदाहरण के लिए, कोटक महिंद्रा बैंक का सिक्योरिटीज प्रभाग, कोटक सिक्योरिटीज, किए गए लेनदेन की संख्या के आधार पर निवेशकों से शुल्क लेता है:

  • 65 रुपए प्रति माह अधिकतम 10 डेबिट लेनदेन के लिए
  • 50 रुपए प्रति माह 11 से 30 डेबिट लेनदेन के लिए
  • 30 से अधिक डेबिट लेनदेन के लिए प्रति माह 35 रुपए
  • अनिवासी भारतीय प्रति माह 75 रुपए का भुगतान करते हैं

वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क व्यापक रूप से भिन्न होते हैं। कुछ डीपी निवेशकों से प्रति वर्ष 300-500 रुपये का एक फ्लैट शुल्क लेते हैं, जबकि अन्य ग्राहकों को जीतने के लिए प्रथम वर्ष के वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क को माफ करते हैं और दूसरे वर्ष में चार्ज करना शुरू करते हैं।

इसके अलावा, निवेशकों को अपने डीपी नियमों के आधार पर केंद्र सरकार के माल और सेवा कर (GST) का मासिक, त्रैमासिक या वार्षिक भुगतान करना होगा। GST किसी भी डीपी वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क से अलग है।

डीमैट अकाउंट ट्रांजेक्शन्स शुल्क (Demat Account Transaction Charges)

लेन-देन शुल्क प्रति लेनदेन पर लगाया जाने वाला शुल्क होता है। वे एक फ्लैट शुल्क या प्रति ट्रांजेक्शन्स के प्रतिशत हो सकते हैं। ट्रांजेक्शन्स शुल्क एक डीपी से दूसरे में भिन्न होता है।

निवेशकों को पता होना चाहिए कि ट्रेडिंग गतिविधि करने से पहले वे प्रति ट्रेड क्या भुगतान करते हैं। किए गए ट्रेडों की मात्रा के आधार पर ये लेनदेन शुल्क 1.5 से 20 रुपए के बीच कहीं भी हो सकते हैं।

डीमैट अकाउंट पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या IPO के लिए डीमैट अकाउंट अनिवार्य है?

नहीं, आप IPO को ऑफलाइन भी सब्सक्राइब कर सकते हैं। लेकिन अगर आपको शेयर आवंटित किए जाते हैं, तो आप उन शेयरों को नहीं बेच सकते हैं जिनके पास डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है। इसलिए, डीमैट अकाउंट के माध्यम से IPO की सदस्यता लेने की सिफारिश की जाती है।

क्या डीमैट अकाउंट सुरक्षित है? अगर मेरा ब्रोकर डिफॉल्ट करता है तो क्या होगा?

याद रखें, आपका ब्रोकर आपके और डिपॉजिटरी (NSDL और CDSL) के बीच केवल एक मध्यस्थ है। सभी दलालों को सेबी द्वारा कड़ाई से विनियमित किया जाता है, जो निवेशकों की सुरक्षा के लिए काम करता है।

क्या मैं एक से अधिक डीमैट अकाउंट ओपन कर सकता हूँ?

हां, आपके पास एक या एक से अधिक डिपॉजिटरी प्रतिभागियों के साथ कई डीमैट अकाउंट हो सकते हैं। लेकिन आपको प्रत्येक व्यक्तिगत डीमैट अकाउंट के लिए डीमैट शुल्क का भुगतान करना होगा।

क्या मैं म्यूचुअल फंड को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित कर सकता हूं?

हां, आप अपनी फिजिकल म्यूचुअल फंड युनिटस् को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित कर सकते हैं। इस प्रक्रिया को ‘डिस्टेटमेंटाइजेशन’ के रूप में जाना जाता है।

समय देने के लिए धन्यवाद। आपका दिन शुभ हो!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.